Notifications
Clear all

[Completed] तूफानी चुतों का पेलनहार | Toofani Chuton Ka Pelanhaar

Page 30 / 30

Satish Kumar
Posts: 1092
Admin
Topic starter
Member
Joined: 1 year ago

सीमा: साहिल दीप्ति को खुस रखो गे ना…..?

साहिल: (बेटा मन में लड्डू फूटा…. साहिल को ये टीवी आड याद आ गई….शायद साहिल के मन भी लड्डू फूटा था…..) जी हां बहुत खुस रखूँगा…..

सीमा बेड से खड़ी हुई, और साहिल के पास आकर एक प्यार से चपत उसके गाल पर लगाते हुए बोली….”खुस रखना हां दीप्ति को…..” और फिर बाहर की तरफ जाने लगी और डोर के पास जाकर रुक गई…..साहिल सीमा को ही देख रहा था….सीमा ने मूड कर साहिल की तरफ देखा और मुस्कुराते हुए बोली…..”और मुझे….मुझे भी खुस रखोगे ना….” साहिल ने मुस्कुराते हुए हां में सर हिला दिया…..सीमा नीचे आ गई….

तूफानी चुतों का पेलनहार | Toofani Chuton Ka Pelanhaar | Update 146

अगली सुबह सीमा दीप्ति अपने घर के लिए निकल गई....घर पर नेहा और पायल अब दोनो बहुत खुस थी.....इस बीच नेहा और पायल दोनो को बच्चा ठहर गया था. जाहिर सी बात है कि ये दोनो बच्चे साहिल के ही थे....पर पायल और नेहा इस बात को लेकर घबराई हुई थी....नेहा तो ख़ासतोर पर ज़्यादा घबराई हुई थी....क्योंकि नेहा को कई सालो से बच्चा नही ठहरा था....पायल नेहा के लिए परेशान थी....शाम का वक़्त था दोनो बैठी हुई बातें कर रही थी....

पायल: दीदी आप परेशान क्यों हो रही है...अभी कुछ ही दिन तो हुए है आपके दिन चढ़े हुए....आप मेरे साथ चलना शहर....वहाँ पर एक नर्सिंग होम के डॉक्टर से मेरी जान पहचान है....वहाँ जाकर मेडिसिन ले लेते है....

नेहा: और तुम तुम भी बच्चा गिराना चाहती हो क्या...?

पायल: नही दीदी में नही गिराउन्गि.....

नेहा: पायल सुन ना मेरा भी मन नही है बच्चा गिराने का.....

पायल: तो फिर मत गिराए ना....

नेहा: पर घर पर कैसे क्या कहूँगी....के अचानक से बच्चा कैसे हो गया..?

पायल: देखो दीदी जितना में कुलवंत भाई साहब को जानती हूँ....उस हिसाब से वो ज़्यादा सोचेंगे नही....और ना ही कोई सवाल जवाब करेंगे....बस एक रात जी भर कर उनसे चुदवा लेना....फिर कह देना के बच्चा ठहर गया है....

नेहा: ये काम करेगा....

पायल : एक बार उनका रिक्षन देख लेना कि क्या कहते है....अगर काम बिगड़ता हुआ देखे तो कह देना कि अभी आप भी पूरी तरह शुवर नही है...और फिर हम शहर जाकर अबॉर्षन करवा लेंगे....अगर सब सही रहा तो आप की गोद भी हरी हो जाएगी.....

उस रात को नेहा ने अपनी पति कुलवंत से पूरी रात चुदवाया....और एक हफ्ते बाद अपनी डेट ना आने का बताया....कुलवंत ये बात सुन कर हैरान तो हुआ पर वो उसके साथ खुस भी था....उसके चेहरे पर शक या शिकन के निशान नही थे. 9 महीनो बाद पायल ने एक प्यारी सी बेटी और नेहा ने एक बेटे को जनम दिया.... साहिल अब 12थ के एग्ज़ॅम क्लियर कर चुका था.......इस दोरान बीच-2 में साहिल की दीप्ति से फोन पर ही बात होती रहती थी....

बच्चो की वजह से नेहा और पायल अब साहिल से दूर ही रहती थी....नेहा और पायल ने अब फैंसला कर लिया था कि, जो वक़्त उन दोनो ने साहिल के साथ बीताया है. वो उसी के सहारे अब अपनी आगे की जिंदगी बीता देंगी....क्योंकि वो दोनो जानती थी कि, अब साहिल की आगे की जिंदगी पर सिर्फ़ दीप्ति का हक़ है....साहिल भी ये बात समझ चुका था....सब नॉर्मल चल रहा था....पर शायद साहिल की जिंदगी में एक और टर्न आना बाकी था....जो उसकी आगे आने वाली जिंदगी को और खुशहाल बना सकता था...

इस दौरान हुआ ये कि साहिल को एंट्रेन्स एग्ज़ॅम देने के लिए दीप्ति के सहर जाना पड़ा. सीमा को जब ये बात पता चली के साहिल उनके सहर में आ रहा है, तो उसने नेहा से बात करके कहा कि, साहिल उनके घर पर ही ठहरेगा.....इसीलिए साहिल एग्ज़ॅम देने के बाद सीधा सीमा के घर पर पहुँच गया...सीमा का पति मुकेश उस समय बिज़्नेस के सिलसिले में आउट ऑफ सिटी गया हुआ था.....रात के खाने के बाद जब साहिल का गेस्ट रूम में सोने का अरेंज्मेंट कर दिया गया था....

साहिल के मुन्सल जैसे लंड से चुद चुकी सीमा की बुर साहिल के आने के टाइम से कुलबुला रही थी...दीप्ति का रूम ऊपेर वाली मंज़िल पर था....जब गेस्ट रूम और सीमा का रूम नीचे ग्राउंड फ्लोर पर ही था.....रात के करीब 1 बजे, सीमा ने गेस्ट रूम का डोर नॉक किया....जब साहिल ने रूम का डोर खोला तो सामने सीमा को खड़े देखा....सीमा ब्लू कलर के शॉर्ट नाइटी में खड़ी थी...साहिल समझ चुका था कि, सीमा इस समय क्यों आई है......साहिल डोर से पीछे हट कर बेड पर जाकर लेट गया.....सीमा रूम के अंदर आई, और डोर बंद करके, साहिल की तरफ घूमी....साहिल अंडरवेर में बेड पर लेटा हुआ था....

To be Continued

Reply
Satish Kumar
Posts: 1092
Admin
Topic starter
Member
Joined: 1 year ago

साहिल के मुन्सल जैसे लंड से चुद चुकी सीमा की बुर साहिल के आने के टाइम से कुलबुला रही थी...दीप्ति का रूम ऊपेर वाली मंज़िल पर था....जब गेस्ट रूम और सीमा का रूम नीचे ग्राउंड फ्लोर पर ही था.....रात के करीब 1 बजे, सीमा ने गेस्ट रूम का डोर नॉक किया....जब साहिल ने रूम का डोर खोला तो सामने सीमा को खड़े देखा....सीमा ब्लू कलर के शॉर्ट नाइटी में खड़ी थी...साहिल समझ चुका था कि, सीमा इस समय क्यों आई है......साहिल डोर से पीछे हट कर बेड पर जाकर लेट गया.....सीमा रूम के अंदर आई, और डोर बंद करके, साहिल की तरफ घूमी....साहिल अंडरवेर में बेड पर लेटा हुआ था....

तूफानी चुतों का पेलनहार | Toofani Chuton Ka Pelanhaar | Update 147

सीमा ने अपनी नाइटी को नीचे से पकड़ कर ऊपेर उठाते हुए उतारना शुरू कर दिया......सीमा ने नीचे कुछ नही पहना हुआ था....उसने अपनी नाइटी उतार कर नीचे फेंक दी.....और साहिल के बेड पर चढ़ कर उसके शॉर्ट्स को पकड़ कर नीचे सरका दिया....साहिल का मुन्सल जैसा लंड बाहर आकर झटके खाने लगा... साहिल के लंड को देखते ही सीमा की आँखो में चमक आ गई...उसने साहिल के लंड को मुट्ठी में कसते हुए उसके लंड के सुपाडे को अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया....साहिल भी पिछले कई महीनो से चूत के लिए तरस रहा था.....उसने अपने हाथ नीचे लेजा ते हुए सीमा की 36 साइज़ की चुचियों को पकड़ कर मसलना शुरू कर दिया......

इधर सीमा हवस के खेल में इस कदर मसगूल थी कि, वो ये भी भूल बैठी थी कि उसकी जवान बेटी घर में है....उधर दीप्ति प्यास लगने के कारण उठ चुकी थी...उसके रूम में पानी नही था....वो नीचे आई और किचन से पानी की बॉटल लेकर ऊपेर जाने लगी तो उसकी नज़र सीमा के रूम की तरफ गई...रूम का डोर खुला हुआ था और लाइट ऑन थी.....दीप्ति सीमा के रूम की तरफ बढ़ी. जब उसने डोर पर जाकर अंदर देखा तो अंदर कोई नही था.....दीप्ति को लगा कि शायद उसकी मा बाथरूम में हो.....पर बेड पर पड़ी पैंटी और ब्रा देख दीप्ति को अजीब सा लगा....

दीप्ति रूम में अंदर आ गई...और बेड पर पड़ी हुई अपनी मा के पैंटी को उठा कर देखने लगी....सीमा की पैंटी से उसकी चूत से निकले हुए कामरस की तेज महक आ रही थे....सामने बाथरूम का डोर खुला था....और अंदर कोई ना था... दीप्ति ने हाथ में पकड़ी पैंटी को ध्यान से देखा तो वो चूत वाले हिस्से से एक दम गीली थी....मतलब सॉफ था कि, सीमा एक दम चुदास से भरी हुई थी. अब ये सवाल दीप्ति के मन में था कि, मा आख़िर है कहाँ.....

दीप्ति जो कि अब जवान हो चुकी थी.....उसके मन में अजीब सा डर दौड़ गया.... वो उठ कर बाहर आई, उसके हाथ में अभी भी अपनी मम्मी की भीगी हुई पैंटी थी....और दीप्ति गेस्ट रूम के डोर के पास आकर खड़ी हो गई....उसे अंदर से हल्की सिसकारियो की आवाज़ सुनाई दे रही थी....उसके हाथ पैर काँपने लगे... पर फिर भी हिम्मत जुटा तक उसने की होल से अंदर झाँका.....तो उसके आँखे फटी की फटी रह गई...कलेजा जैसे मुँह को आ गया....धड़कने मानो थम सी गई हो....

अंदर साहिल सीमा की जाँघो के बीच बैठा हुआ था….उसने सीमा की टाँगो को घुटनो से मोड़ कर ऊपेर उठा रखा था….और अपनी कमर को तेज़ी से हिलाते हुए अपने लंड को सीमा की चूत के अंदर बाहर कर रहा था….और सीमा भी अपनी गान्ड को ऊपेर के और उछाल कर अपनी चूत को साहिल के लंड पर पटक रही थी….”हां साहिल चोदो मुझे अपनी सास की चूत फाड़ दो आज….आह साहिल तुम्हारा लंड सच में बहुत मोटा है….जब से तुम आए हो…मेरी चूत ने मुझे एक पल भी चैन नही लेने दिया….आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह मेरे जमाई राजा फाड़ दो अपनी सास की चूत को….”

अपनी मा को साहिल से यूँ चुदते हुए देख दीप्ति की आँखें जैसे पथरा गई हो…हलक में जैसे उसकी साँसे अटक गई हो….वो काँपते हुए पैरो के साथ आगे बढ़ कर ऊपेर जाने लगी….एक दम बुत सी बनी हुई….तभी उसकी मा की मस्ती भरी सिसकारी ने मानो उसके कानो के पर्दे फाड़ दिए हो….”अह्ह्ह्ह साहिल देख तेरी सासू मा की चूत ने तेरे लंड पर पानी छोड़ना शुरू कर दिया है हाई साहिल ये ले अपनी सास की चूत का पानी आह अहह माआ….”

दीप्ति ये सब सुन कर एक दम से झन्झना उठी और बेखयाली में वो सीडयों के पास रखे टेबल पर पड़े फ्लवर पोर्ट से जा टकराई….टेबल और फ्लवर पोर्ट के गिरने से तेज आवाज़ हुई….अभी-2 झड़ी सीमा और साहिल आवाज़ सुन कर एक दम से घबरा गए….सीमा जल्दी से खड़ी हुई और अपनी नाइटी को फरश उठा कर पहना और डोर खोल कर बाहर आई, तो उसके पैरो तले से ज़मीन खिसक गई…सामने दीप्ति सीडयों पर खड़ी थी…उसके हाथ में अभी भी सीमा की पैंटी थी…. जिसे देख कर सीमा का रंग उड़ गया…

To be Continued

Reply
Satish Kumar
Posts: 1092
Admin
Topic starter
Member
Joined: 1 year ago

दीप्ति ये सब सुन कर एक दम से झन्झना उठी और बेखयाली में वो सीडयों के पास रखे टेबल पर पड़े फ्लवर पोर्ट से जा टकराई….टेबल और फ्लवर पोर्ट के गिरने से तेज आवाज़ हुई….अभी-2 झड़ी सीमा और साहिल आवाज़ सुन कर एक दम से घबरा गए….सीमा जल्दी से खड़ी हुई और अपनी नाइटी को फरश उठा कर पहना और डोर खोल कर बाहर आई, तो उसके पैरो तले से ज़मीन खिसक गई…सामने दीप्ति सीडयों पर खड़ी थी…उसके हाथ में अभी भी सीमा की पैंटी थी…. जिसे देख कर सीमा का रंग उड़ गया…

तूफानी चुतों का पेलनहार | Toofani Chuton Ka Pelanhaar | Update 148

सीमा: दीप्ति में वो में वो साहिल को पानी देने…..

दीप्ति के बदन में मानो जैसे आग सुलग रही थी….उसने अपने हाथ में पकड़ी हुई पैंटी सीमा के मुँह पर दे मारी…..”पानी देने आई थी या अपनी छीईईईईईईई….” ये कहते हुए दीप्ति ऊपेर अपने रूम में भाग गई…..और अंदर से रूम लॉक कर लिया… डोर की आड़ में खड़ा साहिल ये सब सुन कर एक दम से घबरा गया….सीमा ने एक बार साहिल की तरफ देखा और फिर अपने रूम में आ गई….

अगली सुबह साहिल जलदी ही वहाँ से निकल कर अपने गाओं के लिए रवाना हो गया… दीप्ति रात भर अपने रूम में रोती रही थी….और करीब सुबे 4 बजे सोई थी… वो करीब 11 बजे उठी….तो घर में एक दम सन्नाटा छाया हुआ था….वो नीचे उतरी और किचन की तरफ जाने लगी तो, हाल में सोफे पर बैठी सीमा ने उसे आवाज़ लगाई…दीप्ति सोच रही थी कि उसकी मा शायद कल की बात के लिए उससे माफी माँगे गी…पर ऐसा कुछ नही हुआ….दीप्ति आपनी मा के पास जाकर खड़ी हो गई…..

सीमा: देखो बेटा जो कुछ भी कल हुआ और जो भी तुमने देखा उसे भूल जाओ…

दीप्ति: बस ?

सीमा: और क्या ?

दीप्ति: आप को अपने किए हुए पर ज़रा भी शरम नही आ रही….कितनी आसानी से कह दिया कि, में सब भूल जाउ…आपने अपनी ही बेटी के साथ ये सब क्यों किया….

सीमा: देखो दीप्ति…..में वही कहूँगी जो मेरे मन है….और जो मेने किया में उसके लिए ज़रा भी शर्मिंदा नही हूँ….शायद तुम्हें नही पता पर तुम्हारे पापा ने आज तक मुझे शारीरिक सुख कभी नही दिया…और अगर मेने अपनी जिंदगी के कुछ पल एंजाय कर भी लिए तो क्या है…..

दीप्ति: आप कैसी औरत हो मा…ठीक है आपने साहिल के साथ एंजाय किया और आगे भी करती रहना….पर मुझे अब उससे शादी नही करनी है….

सीमा: मुझे तो लगा था कि तुम साहिल से प्यार करती हो…

दीप्ति: हां करती हूँ….पर इसका मतलब ये नही कि वो मुझे धोखा देता रहे…और में चुप चाप देखती रहू….

सीमा: देखो दीप्ति….इसमे साहिल की कोई ग़लती नही है….सारी कसूर मेरा है… मेने ही उसे ये सब करने के लिए उकसाया था

दीप्ति: पर आपने साहिल के साथ ही क्यों….

सीमा: देख दीप्ति में अब सीधे-2 मुद्दे की बात पर आती हूँ…तुम्हे तो तुम्हारे पापा का पता है….और ये सब ऐशों आराम ये सारी दौलत ये पैसा जायदाद सब मेरे पापा की दी हुई है,……और आगे चल कर ये सब तुम्हारे और साहिल के नाम कर दूँगी….पर तुम्हे मेरे साथ साहिल को शेर करना होगा…मेरी भी लाइफ है…मेरा भी दिल करता है वो सब करने का जो बाकी के दूसरी औरतें करती है…..अगर मेने कर लिया तो हरज ही क्या है

उस दिन के 1 महीने के बाद: -

साहिल अपने रूम में बैठा हुआ था….कि तभी उसका मोबाइल बजा….साहिल ने अपना मोबाइल उठा कर देखा तो स्क्रीन पर दीप्ति का नाम था….आज दीप्ति ने उसे करीब 1 मंथ बाद कॉल थी…साहिल ने कॉल पिक की….

साहिल: हेलो….

दीप्ति: हेलो तुषार….कैसे हो….?

साहिल: में ठीक हूँ तुम कैसी हो…?

दीप्ति: में ठीक हूँ….पर तुम्हे इससे क्या….एक बार भी फोन नही किया…?

साहिल: वो मुझे लगा के तुम नाराज़ हो और मुझसे बात नही करोगी…

दीप्ति: हां नाराज़ तो हूँ पर तुमने तो एक बार भी मुझे मनाने की कॉसिश नही की.

साहिल: किस मुँह से करता…मेरी तो हिम्मत ही नही हो रही थी…

दीप्ति: उसी मुँह से जब तुम मम्मी की टाँगे उठा कर ले रहे थे हीहे…

साहिल दीप्ति की बात सुन कर एक दम से चोंक गया…”ये क्या कह रही हो तुम”

दीप्ति: (हंसते हुए) जो तुम सुन रहे हो….अच्छा एक बात कहूँ…..?

साहिल: हां बोलो….

दीप्ति: मम्मी तुम्हे बहुत याद कर रही है….

साहिल: तुम क्या बोल रही हो में समझ नही पा रहा…..

दीप्ति: लो मम्मी से बात करो…वही तुम्हे समझायँगी….

सीमा: हेलो साहिल कैसे हो ?

साहिल: जी में ठीक हूँ…आप कैसे हो…और ये दीप्ति को क्या हो गया…?

सीमा में ठीक हूँ…और उसे कुछ नही हुआ…वो दरअसल दीप्ति को इस बात से कोई इतराज नही है….कि हमारे बीच कैसा रिस्ता है….

साहिल: (खुस होते हुए) आप सच कह रहे है….

सीमा: हां एक दम सच….फिर दीप्ति को लेजाने कब आ रहे हो….तुम्हारी दीप्ति तुम्हारा इंतजार कर रही है….

साहिल: अब इसके बारे में में क्या कह सकता हूँ….

फिर दीप्ति ने थोड़ी देर साहिल से बात की और फोन रख दिया….

“दोस्तो आज दीप्ति और साहिल की शादी हो गई है….साहिल ने अपने पिता रमेश के साथ अपना बिज़्नेस सेट कर लिया है…पर वो अपना अलग घर बना कर सहर में अपनी पत्नी दीप्ति के साथ रह रहा है….और साथ में उसकी सास सीमा भी ज़्यादा तर उसके घर में ही रहती है…दुनिया की नज़र में सीमा और साहिल का रिश्ता सास और दामाद का है….पर सच्चाई कुछ और ही है…..दोनो साहिल के मुन्सल लंड का मज़ा आज भी ले रही है…दीप्ति अपनी मा से साहिल का लंड क्यों शेर करने पर राज़ी हो गई…ये मुझे भी पता नही…पर तीनो है खुश….”

ऑल ईज़ वेल

THE END

Reply
Page 30 / 30

Join Free ! Unlock Premium Feature

Recent Posts