Notifications
Clear all

गीता नौकरानी से रखैल बनी | Gita Noukrani se Rakhail Bani


Antadu
Posts: 581
Topic starter
Honorable Member
Joined: 8 months ago

गीता नौकरानी से रखैल बनी | Gita Noukrani se Rakhail Bani

 नौकरानी से रखैल बनी Gita Noukrani se Rakhail Bani

गीता नौकरानी से रखैल बनी | Gita Noukrani se Rakhail Bani: ये बात तब की है जब में एक प्राइवेट फर्म में एकाउंट्स असिस्टेंट के पोस्ट पर काम कर रहा था. मेरा ऑफिस एक ७ मन्ज़िलवाली बिल्डिंग में थी. मुझे वहां आये हुए १८-२० दिन हो चूका था. ऑफिस का टाइम था १०.०० बजे.

एक दिन मैनेजर ने मुझसे कहा "जय तुम्हे सुबह ९ बजे आकर ऑफिस खोलना होगा. यहाँ ऑफिस लेट खुलने से साफ़ सफाई का काम देर से होता है और कभी कभी नहीं भी होता. इतने में ऑफिस में लोग आने शुरू हो जाता है. इसमें साफ़ सफाई में भी दिक्कत होती है और स्टाफ को ऑफिस के बहार खड़े रहना पड़ता है. तुम शाम तो ७.०० बजे के बजाये ६.३० को निकल सकते हो”

मैंने कहा- "ठीक है”

ऑफिस के सरे स्टाफ काफी दूर से आते थे और मुझे घर से ऑफिस तक आने में सिर्फ ३० मिनट लगते थे. इसलिए ये काम मुझे सौपा गया था. में रोज़ सुबह ८.४५ को आकर ऑफिस खोलने लगा. ऑफिस के साफ़ सफाई के लिए एक औरत आती थी जिसकी उम्र ४५ के करीब थी. वही पूरे बिल्डिंग की साफ़ सफाई करती थी जिसके लिए उससे हर महीने सैलरी दी जाती थी. उनका भी एक ग्रुप होता था जो उस पूरे एरिया का काम करते थे. करीब २ महीने तक वो टाइम से लगातार आती रही..

मेरा मैनेजर भी खुश था क्यूंकि ९.३० से पहले ही ऑफिस की साफ़ सफाई हो जाती थी.

एक दिन रोज़ की तरह में सुबह जाकर ऑफिस खोला और कुछ ही देर के बाद मैंने देखा एक नया चेहरा ऑफिस की और चली आ रही थी.

वो अंदर आने वाली थी की मैंने उससे वही रुक जाने के लिए कहा और पूछा ”तुम कौन हो? क्या चाहिए तुम्हे”.

उसने बड़ी मीठी आवाज़ में कहा ”वो साहेब ऐसा है की सविता कुछ दिनों के लिए आने वाली नहीं है. उसने मुझे भेजा है यहाँ की साफ़ सफाई करने के लिए”.

मैंने कहा-”ओह.. चाहा.. ठीक है”.

फिर वो मुझे देखर मुस्कुरा दी.

मैंने भी मुस्कुरा दिया.

मैंने पूछा”तुम्हारा नाम क्या है.

उसने कहा”गीता”.

============

Ye baat tab ki hai jab mein ek Pvt. Firm me Accounts assistant ke post par kaam kar raha tha. Mera office ek 7 manzilwali building me thi. Mujhe waha join hue 18-20 din ho chuka tha. Office ka time tha 10.00 baje.

Ek din manager ne mujhse kaha”Jai tumhe subah 9 baje aakar office kholna hoga. Yaha office late khulne se saaf safai ka kaam der se hota hai aur kabhi kabhi nahi bhi hota. Itne mein office me log aane shuru ho jata hai. Isme saaf safai me bhi dikkat hoti hai aur staff ko office ke bahar khade rehna padta hai. Tum shaam to 7.00 baje ke bajaye 6.30 ko nikal sakte ho”

Meine kaha”Theek hai”.

Office ke sare staff kafi dur se aate they aur mujhe ghar se office tak aane me sirf 30 minute lagte they. Isliye ye kaam mujhe saupa gaya tha. Mein roz subah 8.45 ko aakar office kholne laga. Office ke saaf safai ke liye ek aurat aati thi jiski umra 45 ke karib thi. Wahi purey building ki saaf safai karti thi jiske liye ussey har mahine salary di jaati thi. Unka bhi ek group hota tha jo us puray area ka kam karte they. Karib 2 mahine tak wo time se lagatar aati rahi.

Mera manager bhi Khush tha kyunki 9.30 se pehle hi office ki saaf safai ho jati thi. Ek din roz ki tarah mein subah jakar office khola aur kuch hi der ke bad meine dekha ek naya chehra office ki aur chali aa rahi thi.

Wo andar aane wali thi ki meine ussey wahi ruk jane ke liye kaha aur pucha ”Tum kaun ho? Kya chahiye tumhe”.

Usne badi meethi awaz me kaha ”Wo saheb aisa hai ki savita kuch dino ke liye aane wali nahi hai. Usne mujhe bheja hai yaha ki saaf safai karne ke liye”.

Meine kaha”Oh.. Achaha.. Theek hai”.

Phir wo mujhe dekhar muskura di.Meine bhi muskura diya.

Meine pucha”Tumhara naam kya hai.

Usne kaha”Gita”.

To be Continued

Join Us!

 No online members at the moment

Recent Posts

Share:
BENUDES
Logo