Notifications
Clear all

चुदासा परिवार । Chudasa Pariwar

Page 5 / 5

Raj Sharma
Posts: 273
Registered
Topic starter
Reputable Member
Joined: 1 year ago

कंचन अपने भाई के हाथ अपनी चुचियों पर पड़ते ही कांप उठी, विजय अपनी सगी बहन की नरम चुचियों को दबाता हुआ अपना मूह उसके काँधे से नीचे लाते हुए उसकी चुचियों तक आ गया और अपनी बड़ी बहन की एक चूचि के गुलाबी दाने को अपने मूह में भर लिया ।

"आह्ह शी ईईईईईईईईईईई

कंचन अपने चूचि का निप्पल अपने छोटे भाई के मूह में जाते ही मज़े से तड़पते हुए सिसक उठी", विजय अपनी बड़ी बहन की नरम चूचि को एक हाथ से सहलाते हुए दुसरे हाथ से उसकी पीठ सहला रहा था ।

विजय का लंड उत्तेजना के मारे बुहत ज़ोरों से कंचन की गांड से टकरा रहा था, विजय अपनी सगी बहन की अनछुई चूचि को बुहत ज़ोर से चूस रहा था । विजय को अपनी बड़ी बहन की चूचि चूसते हुए बुहत मजा आ रहा था।

sex man woman rommance

चुदासा परिवार । Chudasa Pariwar । अपडेट 21

कंचन के जिस्म ने अब अकडना शुरू कर दिया था, अपने बड़े भाई के इतने ज़ोर से उसकी चूचि चूसने से उसके पूरे जिस्म में अनोखे मज़े से सिहरन हो रही थी । कंचन की साँसें बुहत ज़ोर से चल रही थी, उसे अपनी चूत में भी बुहत ज़ोर की गुदगुदी महसूस हो रही थी ।

कंचन ने अपने भाई के बालों को सहलाते हुए अपनी चूत ज़ोर से उसके पेट पर रगडने लगी, कंचन अपनी चूचि के चूसने से बुहत ज़्यादा उत्तेजित होकर झरने के क़रीब पुहंच गयी थी । कंचन ने अचानक अपने छोटे भाई के मूह में अपनी चूचि को ज़ोर से दबा दिया ।

कंचन ने अपनी चूचि को इतनी ज़ोर से अपने छोटे भाई के मूह में दबाया की उसकी चूचि आधे से ज़्यादा उसके छोटे भाई के मूह में चली गई । कंचन का बदन बुहत ज़ोर से काँपने लगा, वह बुहत ज़ोर से आहें भरते हुए अपनी चूत को विजय के पेट पर रगड रही थी ।
कंचन का पूरा जिस्म उतेजना के मारे काम्पने लगा। कंचन की चूत अचानक झटके खाने लगी और वह "उह आह्ह इश करते हुए वह झरने लगी" । विजय को अपने पेट पर कुछ गर्म गर्म सा अह्सास हुआ, यह अह्सास उसकी बड़ी बहन की चूत से निकालते हुए पानी का था।

कंचन की चूत कुछ देर तक अपने भाई के पेट पर पानी छोड़ती रही, कुछ देर बाद कंचन बिलकुल शांत होकर अपने छोटे भाई के ऊपर पडी थी । विजय अभी तक अपनी बड़ी बहन की नरम नरम चुचियों को सहलाने और चुसने में खोया हुआ था ।

विजय अपनी बहन को शांत देखकर उसको अपनी बाँहों में भरते हुए अपने ऊपर से उठाकर सीधा सुला दिया और खुद उसकी टांगों को चौड़ा करते हुए अपनी बड़ी बहन के ऊपर चढ गया ।

विजय अपनी बड़ी बहन के ऊपर ऐसे चढा हुआ था की उसक लंड सीधा कंचन की चूत पर रगड रहा था । विजय अपने लंड को बुहत ज़ोर से अपनी बड़ी बहन की कुँवारी चूत पर रगडते हुए उसकी चुचियों को अपने हाथों से सहलाने लगा ।

कंचन को विजय का लंड अपनी चूत पर ऊपर से नीचे तक रगडता हुआ महसूस हो रहा था, कंचन को डर लगने लगा कहीं उसके भाई ने अपना लम्बा और मोटा लंड उसकी चूत में घुसेड दिया तो वह बर्दाशत नहीं कर पायेगी और उसके चीख़ने से पकडे जाने का डर था।

"क्या कर रहे हो विजु " कंचन ने अचानक अपने भाई को धक्का देते हुए अपने ऊपर से हटा दिया।

"दीदी क्या हुआ बुहत मजा आ रहा था, प्लीज करने दो ना" विजय ने गिडगिडाते हुए कहा।

"बुहत हो चुका, मैं इसके आगे नहीं जा सकती" कंचन गुस्से से उठते हुए अपने कपडे पहनने लगी ।

"देखो न दीदी यह कैसा मुझे तँग कर रहा है" विजय भी बेड से उठते हुए अपनी बड़ी दीदी के सामने खडा होकर अपने खडे लंड की तरफ इशारा करते हुए बोला,

"तंग मत कर विजू", कंचन ने अपनी सलवार पहंनते हुए कहा ।

To be Continued

Reply
Raj Sharma
Posts: 273
Registered
Topic starter
Reputable Member
Joined: 1 year ago

"क्या कर रहे हो विजु " कंचन ने अचानक अपने भाई को धक्का देते हुए अपने ऊपर से हटा दिया।

"दीदी क्या हुआ बुहत मजा आ रहा था, प्लीज करने दो ना" विजय ने गिडगिडाते हुए कहा।

"बुहत हो चुका, मैं इसके आगे नहीं जा सकती" कंचन गुस्से से उठते हुए अपने कपडे पहनने लगी ।

"देखो न दीदी यह कैसा मुझे तँग कर रहा है" विजय भी बेड से उठते हुए अपनी बड़ी दीदी के सामने खडा होकर अपने खडे लंड की तरफ इशारा करते हुए बोला,

"तंग मत कर विजू", कंचन ने अपनी सलवार पहंनते हुए कहा ।

Handjob

चुदासा परिवार । Chudasa Pariwar । अपडेट 22

प्लीज मेरी प्यारी दीदी इसका कुछ करो ना" विजय ने फिर से अपनी दीदी को मिन्नत करते हुए कहा।

"वीजू में इसका क्या कर सकती हूं, तुम अपने हाथ से इसे शांत कर दो" कंचन ने अपनी सलवार को भी पहनते हुए कहा ।

"दीदी मुझे नहीं पता हाथ से कैसे करते है, प्लीज आप ही कर दो ना" विजय ने फिर से अपनी बड़ी बहन को तंग करते हुए कहा।

"वीजू मैंने भी सहेली से सुना था की उसका बॉयफ्रैंड उसको याद करके अपने हाथ से इसको शांत करता है, मुझे कुछ नहीं पता"

कंचन ने अपने छोटे भाई के लंड की तरफ इशारा करते हुए कहा।

"दीदी चलो बेड पर बैठो न। मैं कुछ नहीं करूंगा आपके साथ" विजय ने अपनी बहन को हाथ से पकडते हुए बेड की तरफ खींचते हुए कहा, कंचन भी अपने भाई की बात को मानते हुए उसके साथ बेड पर बैठ गयी ।

"दीदी मेरा एक दोस्त बता रहा था की जब वह अपने लंड को हाथ में लेकर ऊपर से नीचे तक सहलाता है तो उसे बुहत मजा आता है और इस में से पानी भी निकलता है" विजय ने बेड पर बैठते ही अपनी बड़ी बहन को बताया ।

"वीजू तू मुझे कुछ मत बता, जो करना है भले करो" कंचन ने अपने भाई से कहा।

"दीदी आप मेरी गर्लफ्रेंड है, थोडी देर के लिए अपने हाथ से इसे नहीं सहला सकती ? विजय ने मूह बनाते हुए अपनी बड़ी बहन को कहा ।

"वीजू लगता है तुम ऐसे नहीं मनोगे" यह कहते हुए कंचन ने अपना हाथ आगे करते हुए अपने भाई के लंड को पकड लिया और उसे आगे पीछे करते हुए सहलाने लगी । आह्हः विजय अपनी बड़ी बहन का नरम हाथ अपने लंड पर पडते ही अपनी आँखें बंद करके सिसक उठा।

कंचन ऐसे ही कुछ देर तक अपने छोटे भाई के लंड को ऊपर नीचे करती रही, अचानक विजय ने अपना हाथ अपनी दीदी के हाथ के ऊपर रख दिया और ज़ोर से सिसकते हुए उसे आगे पीछे करने लगा । कंचन को कुछ समझ में आता इससे पहले ही विजय के लंड से वीर्य की पिचकारियां निकलनी शुरू हो गई ।

कंचन थोडा झुक कर अपने भाई का लंड ऊपर नीचे कर रही थी, जिस वजह से उसके भाई के लंड से निकलता हुआ वीर्य सीधा उसके मूह और उसकी चुचियों के ऊपर कपड़ों पर गिरने लगा ।

कंचन ने अपने छोटे भाई के लंड से कुछ निकलते हुए अपने कपड़ों और चेहरे पर गिरते ही अपना हाथ वहां से हटाना चाहा मगर विजय ने अपनी बड़ी बहन का हाथ बुहत ज़ोर से पकड कर रखा था जिस वजह से वह अपना हाथ न छुड़ा सकी।

विजय अपने लंड से आखरी पिचकारी के निकलने के बाद अपने हाथ को कंचन के हाथ से हटा दिया । कंचन अपने हाथ के आज़ाद होते ही भाग कर बाथरूम में चलि गयी और पानी से अपना मूह साफ़ करने लगी, मूह साफ़ करने के बाद कंचन बाथरूम से बाहर निकल आई।

"वीजू तुम बुहत गंदे हो, मेरे चेहरे और कपड़ों पर तूने वह गन्दी चीज़ गिरायी" कंचन वहां से जाते हुए अपने छोटे भाई को डाँटने लगी । कंचन वहां से जाते हुए अपने कमरे में आ गयी और कपड़े उतार कर बाथरूम में घुस गयी ।

कंचन ने अच्छे तरीके से अपने आपको साफ़ करने के बाद दुसरे कपड़े पहनकर अपने बेड पर आकर सोने की कोशिश करने लगी ।

To be Continued

Reply
Raj Sharma
Posts: 273
Registered
Topic starter
Reputable Member
Joined: 1 year ago

विजय अपने लंड से आखरी पिचकारी के निकलने के बाद अपने हाथ को कंचन के हाथ से हटा दिया । कंचन अपने हाथ के आज़ाद होते ही भाग कर बाथरूम में चलि गयी और पानी से अपना मूह साफ़ करने लगी, मूह साफ़ करने के बाद कंचन बाथरूम से बाहर निकल आई।

"वीजू तुम बुहत गंदे हो, मेरे चेहरे और कपड़ों पर तूने वह गन्दी चीज़ गिरायी" कंचन वहां से जाते हुए अपने छोटे भाई को डाँटने लगी । कंचन वहां से जाते हुए अपने कमरे में आ गयी और कपड़े उतार कर बाथरूम में घुस गयी ।

कंचन ने अच्छे तरीके से अपने आपको साफ़ करने के बाद दुसरे कपड़े पहनकर अपने बेड पर आकर सोने की कोशिश करने लगी ।

Panis

चुदासा परिवार । Chudasa Pariwar । अपडेट 23

रेखा आज बुहत गरम थी अपनी पति के साथ सोते ही वह उससे लिपट गयी और उसको चूमने लगी ।

"छोड़ो न कल ही तो किया था" मुकेश ने अपनी पत्नी को अपने पास से दूर करते हुए अपना चेहरा दूसरी तरफ कर दिया । रेखा की हालत उस वक्त देखने लायक थी। वह सुबह से अपनी हवस की आग में जल रही थी ।

मुकेश के इस बरताव से वह गुस्से और अपनी चूत की आग से पागल हो चुकी थी, वह अपने पति के पास से उठते हुए अपने कमरे से बाहर निकल आई । रात के १२ हो चुके थे। रेखा को कुछ समझ में नहीं आ रहा था के वह क्या करे, रेखा को अचानक एक ख़याल आया वह अपने बेटे के कमरे में जाने लगी।

रेखा ने जैसे ही दरवाज़े को थोडा ज़ोर दिया वह खुल गया, रेखा की ख़ुशी का कोई ठिकाना न रहा । विजय अभी अभी सोया था और वह बिलकुल नंगा सोया हुआ था, वह अभी पूरी तरह से सोया नहीं था ।

रेखा ने देखा उसका बेटा बिलकुल नंगा सोया हुआ है और उसने बल्ब भी बंद नहीं किया था, रेखा अपने बेटे के बेड पर बैठते हुए उसे गौर से देखने लगी । विजय का लंड बिलकुल सिकूड़ा हुआ था, रेखा ने अपने बेटे के लंड की तरफ देखते हुए अपनी नाइटी को उतार दिया ।

रेखा ने नाइटी के नीचे कुछ नहीं पहना था, रेखा अब बिलकुल नंगी होकर बेड पर बैठ गयी और अपना हाथ बढाते हुए अपने बेटे के मुरझाये हुए लंड को पकड़ लिया । रेखा समझ रही थी की उसका बेटा गहरी नींद में सो रहा है ।

विजय जिसे अभी थोडी देर पहले ही नींद आई थी वह अपने लंड पर नरम हाथ पड़ते ही जाग गया, विजय ने जैसे ही अपनी आँखें खोली उसके होश गुम हो गये और उसने अपनी आँखें फिर से बंद कर लिया, रेखा का हाथ जैसे ही अपने बेटे के लंड पर पडा। उसका हाथ थोडा गीला हो गया।

रेखा समझ गयी की उसके बेटे ने हाथ की मेंहनत से अपना वीर्य निकाला है, वह मुस्कुराते हुए अपने बेटे के लंड के सुपाडे से अपनी उँगलियों से वीर्य को साफ़ करने लगी । रेखा को अपनी उँगलियों में चिपचिपा सा अपने बेटे का वीर्य लग गया ।

रेखा ने अपना हाथ अपने बेटे के लंड से हटाते हुए अपनी ऊँगली को अपने नाक पर रख दिया और तेज़ी के साथ अपनी साँस खींचते हुए अपनी ऊँगली को सूँघने लगी । विजय को पहली नज़र में अपनी ऑंखों पर भरोसा नहीं हुआ ।

विजय ने एक बार फिर से अपनी आँखों को खोलकर देखा, उसकी माँ बिलकुल नंगी होकर उसके वीर्य से गीली उंगली को सूंघ रही थी । अचानक उसकी माँ ने वह ऊँगली अपने मूह में डाल दी और उसे अपने होंठो से चूसने लगी ।

विजय अपनी ऑंखों को फाड फाड कर अपनी माँ को देख रहा था । विजय को अपनी माँ की बड़ी बड़ी चुचियों और उनके साथ मोटे गुलाबी निप्पल बल्ब की रौशनी में साफ़ दिखाई दे रहे थे । रेखा ने अचानक अपनी ऊँगली को अपने मूह से निकाल दिया।

रेखा अब अपने बेटे के लंड को अपने हाथ से सहलाने लगी, विजय का लंड अपनी माँ का नरम हाथ पड़ते ही अकडने लगा । रेखा अपने बेटे के लंड को अकडता हुआ देखकर उसे अपने हाथ से सहलाते हुए अपनी टांगों को फ़ैलाकर दुसरे हाथ से अपनी चूत को सहलाने लगी ।

विजय का लंड अब फुल आकार में आकर झटके मारने लगा, रेखा ने बेड पर चढ़ते हुए अपने बेटे के लंड को अपने होंठो से चूम लिया । विजय अपनी माँ के होंठ अपने खडे लंड पर पड़ते ही कांप उठा, रेखा थोडी देर के लिए डरकर अपने बेटे से अलग हो गई ।

To be Continued

Reply
Raj Sharma
Posts: 273
Registered
Topic starter
Reputable Member
Joined: 1 year ago

रेखा अब अपने बेटे के लंड को अपने हाथ से सहलाने लगी, विजय का लंड अपनी माँ का नरम हाथ पड़ते ही अकडने लगा । रेखा अपने बेटे के लंड को अकडता हुआ देखकर उसे अपने हाथ से सहलाते हुए अपनी टांगों को फ़ैलाकर दुसरे हाथ से अपनी चूत को सहलाने लगी ।

विजय का लंड अब फुल आकार में आकर झटके मारने लगा, रेखा ने बेड पर चढ़ते हुए अपने बेटे के लंड को अपने होंठो से चूम लिया । विजय अपनी माँ के होंठ अपने खडे लंड पर पड़ते ही कांप उठा, रेखा थोडी देर के लिए डरकर अपने बेटे से अलग हो गई ।

Pussy Crampie Closeup

चुदासा परिवार । Chudasa Pariwar । अपडेट 24

विजय को अह्सास हो गया की उसके काम्पने से उसकी माँ डर गयी है, वह अपनी आँखें बंद करके नार्मल हो गया । रेखा थोडी देर तक अपने बेटे को देखती रही जब उसे यकीन हो गया की वह नींद में ही है तो वह अपने बेटे के लंड को फिर से पकड कर सहलाते लगी ।

रेखा ने इस बार अपने बेटे के लंड को सहलाते हुए अपनी चूत में एक ऊँगली डालकर अंदर बाहर करने लगी । रेखा जब अपने बेटे का लंड देखती थी तो उसे अपने जिस्म में अजीब किस्म की सिहरन का अह्सास होता था, इसीलिए वह अपने बेटे के कमरे में आई थी।

रेखा अपनी चूत का पानी अपने बेटे के लम्बे और मोटे लंड को अपने हाथ में पकडकर निकालना चाहती थी ।रेखा अपने बेटे के लंड को सहलाते हुए ज़ोर से अपनी दो उँगलियाँ अपनी चूत में अंदर बाहर करने लगी ।

रेखा बेड पर अपनी टाँगें फैलाकर बैठी थी और उसकी चूत सीधे अपने बेटे के मुँह की तरफ थी, विजय ने इस बार जैसे ही अपनी आँखें खोली उसे अपनी माँ की दोनों टांगों के बीच फ़ैली हुयी बड़ी चूत नज़र आई। जिसमें वह अपनी उँगलियाँ अंदर बाहर कर रही थी ।

विजय आज की रात में दूसरी चूत देख रहा था। पहले वह अपनी बड़ी बहन की छोटी सी गुलाबी चूत देख चूका था । मगर इस बार उसके सामने अपनी माँ की बड़ी मोटे दाने वाली चूत थी जिस चूत से वह खुद निकलकर इस दुनिया में आया था ।

रेखा झरने के बिलकुल क़रीब थी क्योंकी वह अपने चूत में दोनों उँगलियाँ बुहत ज़ोर से अंदर बाहर कर रही थी और वह अपनी ऑंखें बंद करके सिसक रही थी । विजय को अपनी माँ की चूत और चुचियां अपनी बड़ी दीदी से ज़्यादा अच्छी लग रही थी।

विजय बड़े गौर से देख रहा था की उसकी माँ की चूत में उसकी उँगलियाँ अंदर बाहर हो रही थी । रेखा का हाथ अब अपने बेटे के लंड पर एक जगह पडा था, विजय को अपनी माँ की बड़ी बड़ी चुचियां बुहत ज़्यादा रोमान्चक कर रही थी ।

रेखा के मूह से अचानक एक ज़ोर की सिसकी निकली । विजय ने देखा के उसकी माँ की चूत से सफेद सफेद पानी निकल कर उसकी उँगलियों से होता हुआ नीचे गिर रहा है । विजय समझ गया की उसकी माँ झर चुकी है।

रेखा ने पूरी तरह झरने के बाद अपनी ऑंखें खोली उसकी चूत से बुहत पानी निकला था और उसे अब अपना जिस्म कुछ हल्का महसूस हो रहा था । विजय ने अपनी माँ की ऑंखों के खोलने से पहले ही अपनी ऑंखें बंद कर ली थी ।

रेखा ने आखरी बार अपने बेटे के लंड को देखा, विजय के लंड के गुलाबी सुपाडे में से वीर्य की बूँदे निकल रही थी । रेखा ने मुस्कुराते हुए उसे अपने हाथ में पकडते हुए एक किस दे दी और अपनी जीभ निकाल कर अपने बेटे के लंड के चेद पर घुमाते हुए उसके लंड से निकलते हुए वीर्य की बूँदों को चाट लिया।

रेखा अपनी नाइटी पहनते हुए अपने बेटे के कमरे से निकल गयी और अपने कमरे में जाकर सो गयी, विजय की हालत फिर से ख़राब हो चुकी थी । विजय के लंड पर जब उसकी माँ ने जीभ फिराई थी उस वक्त के मज़े का अहसास सिर्फ वह जानता था ।
विजय का लंड झटके मार रहा था, उसे अबतक अपनी माँ की जीभ अपने लंड पर महसूस हो रही थी । विजय ने अपने लंड को हाथ में लेकर आगे पीछे करना शुरू कर दिया ।

विजय अपने लंड को सहलाता हुआ उस पल को याद करने लगा जब उसकी माँ ने उसके लंड पर जीभ फिराई थी, अचानक विजय को एक ख़याल आया और वह बेड से उतरते हुए जहाँ उसकी माँ झरी थी। वहां पर अपने नाक से उसकी चूत से निकला हुआ पानी सूँघने लगा ।

विजय को उस जगह की गंध बुहत अच्छी लगी और वह अपनी माँ के चूत के निकले हुए पानी की महक से पागल होने लगा । विजय उस जगह को सूँघते हुए अपने लंड को ज़ोर से आगे पीछे करने लगा।

विजय कुछ ही देर में हाँफता हुआ झरने लगा । विजय झरने हुए अपनी जीभ निकालकर अपनी माँ की चूत का पानी चाटने लगा, विजय के लंड से जाने कितना वीर्य निकल कर उसके बेड की चादर पर गिरने लगा ।विजय झरने के बाद बिलकुल बेसुध होकर वहीँ पर गिर गया ।

विजय को थोडी देर बाद जब होश आया तो वह अपने आप पर हैरान रह गया । विजय को अब भी अपनी जीभ में अपनी माँ की चूत के पानी का ज़ायक़ा महसूस हो रहा था, विजय ने बेड से उस चादर को उठाकर बाथरूम में पडी बाल्टी में डाल दिया ।

To be Continued

Reply
Page 5 / 5

Join Free ! Unlock Premium Feature

Recent Posts